Breaking News

अन्तर्वासना पर मिली प्रेग्नेंट लड़की की चुदाई 1

डिक सकिंग हॉट गर्ल मुझे र्वासना पर मिली. उसने मेरी कहानी पढ़कर मुझसे सम्पर्क किया, अबोर्शन करवाने में मेरी मदद मांगी. मैं उसकी मदद करने गया भी.

दोस्तो, मेरा नाम रवीश कुमार है, मेरी उम्र 28 साल है, मैं रांची झारखंड से हूं।
मेरे पास 6 इंच का मोटा काला और ताकतवर लंड है।

मैं बहुत चूत चोद चुका हूं, किस्मत और पैसे ने मुझे बहुत चूत दिलवाई।

मेरी पिछली कहानी थी: लालची दोस्त ने नई नई चूत दिलवाई  दोस्तो, यह कहानी जून 2021 की है, मुझे एक लड़की का मेल आया जिसका नाम दीपिका कुमारी था, वो कोलकाता से थी।

हम दोनों की मेल पे बातचीत शुरू हो गई, उसकी उम्र 25 साल, वो एक बड़ी सॉफ्टवेयर कंपनी में जॉब करती थी।
वो फ्लैट लेकर अकेली रहती थी।

एक घंटे की बातचीत के बाद दीपिका ने बताया कि वो मुसीबत में है और उसे मुझसे मदद चाहिए।
दीपिका ने बताया कि वो प्रेगनेंट हो गई है, उसे अबॉर्शन करवाने में मेरी मदद चाहिए।
मुझे लगा कोई लड़का है, मेरे मजे ले रहा है।
मैंने मेल करना छोड़ दिया।

दीपिका का फिर से मेल आया तो मैंने उसे पेट और चूचों पे मेरा नाम लिख के वीडियो बनाने को कहा.
वो मान गई।

दीपिका ने अपने शरीर पे प्लेबॉय रवीश लिख कर मेरा नाम लेते हुए वीडियो बना के भेज दी।

उसकी 36 साइज की चूची देख के मेरा लंड खड़ा हो गया।
अब मैं इंटरेस्ट ले के बात करने लगा।

मुझे पता चला कि दीपिका के दो ब्वॉयफ्रेंड हैं, ऑफिस में बॉस और एक कलीग से अफेयर चलता है।
उसका एक कजिन भाई हैं, स्कूल में ही है वो भी कभी कभी दीपिका की चूत में डुबकी लगा लेता है।

वो सबसे कंडोम लगा कर ही चुदती है लेकिन वो प्रेगनेंट हो गई है।
सबने ने कहा कि उनका हाथ नहीं हैं इस बच्चे में, सबने दीपिका को अकेला छोड़ दिया।
दीपिका के साथ हॉस्पिटल जाने वाला कोई नहीं था.
तो वो चाहती है कि मैं कोलकाता आऊं और उसकी अबॉर्शन करवाने में मदद करूं।

मैंने प्रेगनेंसी का पूछा तो उसने एक वीडियो बनाया जिसमें उसने एक मग में पेशाब किया और किट को उसमें डाल दिया, जिससे किट ने पॉजिटिव दिखा दिया।

थोड़ी देर के बाद दीपिका ने मुझे अपने सोशल नेटवर्किंग आईडी बता दी, जिससे मैंने पता कर लिया कि दीपिका ने जितनी भी बात बोली हैं, वो सब सच हैं।

मैंने दीपिका को सोशल साइट्स पे फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज दी और मेल पे अपना नंबर भी दे दिया।

दीपिका ने मुझे कॉल किया.
हम लोगों ने थोड़ी बातचीत की.

दीपिका डरी हुई थी तो उसने मुझे जल्दी कुछ करने को कहा।
मैंने अगले दिन आने का बोला।

उसके बाद पूरे दिन मैं और दीपिका फोन पे बात करते रह गए, दोनों एक दूसरे को जानने और समझने लगे।

अगले दिन मैं कोलकाता पहुंच गया, दीपिका मुझे लेने आई थी।
मैं दीपिका को देखता रह गया, गोरा रंग, हाइट 5’4″, बड़े बड़े चूचे और गांड, दीपिका ने जींस और टॉप पहन रखा था, जिसमें चूचों और गांड का शेप और साइज साफ दिख रहा था।
दीपिका जिम भी जाती थी, उसका पूरा बदन कड़क था।

हम दोनों ने एक रेस्टोरेंट में बैठ खाना खाया और बात की।

मैंने आज का दिन आराम करके अगले दिन डॉक्टर पास चलने का बोला.
दीपिका मान गई।

वो बोली- चलो मेरे फ्लैट पे, वहीं आराम करना।
मैं- मैंने होटल बुक किया है, तुम चलो मेरे साथ होटल!
दीपिका- मेरे फ्लैट पे कोई नहीं हैं, चलो वहीं रहना, होटल में पैसे क्यों बर्बाद करोगे?
मैं- तुम्हारा अबॉर्शन होने के बाद तुम्हारे फ्लैट पे चलूंगा, तब तक होटल चलो।

दीपिका मान गई, हम दोनों होटल की ओर बढ़ गए।
रास्ते में मैंने कंडोम और प्रेगनेंसी किट ले लिया।

होटल पहुंच के हम दोनों रूम में आ गए.

रूम में आते ही दीपिका ने गले लग के धन्यवाद कहा।

मैं- सब ठीक हो जाएगा। लेकिन ऐसे गले लगने में मजा नहीं आया।
दीपिका- तुमको कैसे गले लगना हैं?

मैंने अपने शर्ट और दीपिका के टॉप का खोल दिया और गले लगा लिया।
हम दोनों एक दूसरे के पीठ को सहलाने लगे।

मैं- ये ब्रा भी हटा दो, मजा दोगुना हो जाएगा।

दीपिका ने ब्रा खोल दी और मेरी छाती से अपनी चूचियों को चिपका दी।
मेरा लंड खड़ा हो गया था तो मैंने दीपिका की चूत पे लंड को सटा कर रगड़ने लगा और होंठों पे किस करने लगा।

खड़े होकर 15 मिनट किस करने के बाद हम लोग अलग हुए।

दीपिका- मजा आ गया यार! दिमाग काम नहीं कर रहा था लेकिन अब ठीक लग रहा है।
मैंने प्रेगनेंसी किट दिया और चेक करने को बोला।

दीपिका जींस में बाथरूम चली गई और 5 मिनट बाद चड्डी में किट लेकर बाहर आई.
किट से पता चल रहा था कि दीपिका प्रेगनेंट है।

हम दोनों बैठ के बात करने लगे.
मैंने पता कर के डॉक्टर का अपॉइंटमेंट ले लिया।

दीपिका बिंदास चड्डी में बैठी हुई थीं जैसे कि वर्षों से मुझे जानती हो।

हम दोनों ने चुदाई के किस्से एक दूसरे को बताए।

दोस्तो, रूम में आपके सामने एक नंगी लड़की बैठी हो तो ज्यादा देर खुद कंट्रोल नहीं कर सकते हो।

मुझसे भी रुका नहीं गया तो मैंने दीपिका से सेक्स का पूछ लिया।
दीपिका- अभी तो मन नहीं हैं, डॉक्टर से मिलने के बाद और सब ठीक होने के बाद सेक्स करते हैं।
मैं मुंह बनाते हुए बोला- ठीक है।

दीपिका मेरे लंड तरफ देखते हुए बोली- आओ फोरप्ले कर लो, फिर मैं चूस दूंगी।

मैं दीपिका के ऊपर चढ़ गया और उसे किस करने लगा. मैं जींस में था और दीपिका सिर्फ चड्डी में थी।

अपना लंड मैं दीपिका की चूत पे रगड़ते हुए किस कर रहा था जिससे दीपिका गर्म हो जाए और खुद से चुदने को रेडी हो जाए।

दीपिका- जींस खोल दो और सिर्फ चड्डी में हो जाओ।

मैंने अपना जीन्स खोला और चड्डी में ही लंड को उसके मुंह के पास ले गया.
उसने चड्डी के ऊपर से लंड को मुंह में लिया और एक बार हल्के दांत से काट दिया।

मैं चोदने के मूड में था तो मैंने वापस से किस करना शुरू कर दिया, मैंने चूत पे लंड रगड़ते हुए 15 मिनट तक किस किया जिससे दीपिका एक बार झड़ गई।

तभी मैं भी झड़ने वाला था तो मैं थोड़ा नीचे हो कर दीपिका के चूचों को चूसने लगा और मैं झड़ने से बच गया.

मैंने 10 मिनट तक दीपिका के चूचों को दबा दबा कर चूसा, जिससे वो बहुत गर्म हो चुकी थी उसके सब्र का बांध टूटने वाला था।
फिर से मैंने चूत पे लंड रगड़ते हुए गर्दन और होंठ पे किस करना शुरू किया,

मैं होंठों पे किस करते हुए अपनी गर्म सांसें उसके चेहरे पे देने लगा और मैं चड्डी के ऊपर से ही चूत पे धक्के भी लगा रहा था।

दीपिका- मेडिकल स्टोर से कंडोम भी लिए थे?
मैं- हां!
दीपिका- एक बार चोद लो लेकिन बाहर झड़ना, मुंह में गिरा देना।

मैंने तुरंत अपने बैग से कंडोम निकाला और तब तक दीपिका ने अपनी चड्डी खुद से खोल दी.
उसकी चूत सफाचट थी।

मैंने अपनी चड्डी उतारी और खड़े लंड पे कंडोम लगाया.
दीपिका की चूत पे थूककर उंगली से गीला कर दिया।

मैं दीपिका के ऊपर चढ़ कर लेट गया और चूत पे लंड सेट कर के धक्का दिया, पूरा लंड एक झटके में चूत में समा गया।
दीपिका से हल्का दर्द हुआ जो कि ना के बराबर था, मैं तेजी में धक्के लगाने लगा।

मैं- गाली दूं?
दीपिका- हां।

मैं- साली रण्डी, भरी जवानी में चूत का भोसड़ा करवा ली है। कितने बड़े बड़े लंड ले चुकी है?
दीपिका- लगभग रोज अलग अलग लंड से चुदती हूँ, भोसड़ा तो बनना ही है।
मैं- साली बैनचोद, चोदने में मजा नहीं आ रहा है। अपने पैर को सटा ले, चूत टाइट हो जाएगी।

दीपिका ने अपने पैर को सटा लिया जिससे की उसकी जांघें चिपक गई और चूत में कसावट आ गई.

मैंने पांच मिनट तक चोदा और लंड को बाहर निकाल कर उसके मुंह में दे दिया.
दीपिका मस्ती में लंड चूसने लगी।

पांच मिनट की चुसाई में मैं दीपिका के मुंह में झड़ गया और बगल में लेट गया।

दीपिका- मजा आया?
मैं- हां, तुम्हें?

दीपिका- मैं चुदने के मूड में नहीं थी लेकिन फोरप्ले से मजा आया और चुद गई, चुदाई में भी मजा आया। अब सब ठीक हो जाए उसके बाद चोद लेना, जैसे चोदना हो।
मैं- ठीक है।

हम दोनों ने बातें की, साथ में खाना खाया, मैंने होंठ पे किस किया, और गुड नाईट बोल कर सो गया।

अगली सुबह दस बजे, मैं और दीपिका डॉक्टर के क्लिनिक पहुंच गए, मैंने एक जवान लेडी डॉक्टर के पास अपॉइंटमेंट लिया था कि कुछ परेशानी नहीं हो।
डॉक्टर ने दीपिका के कुछ टेस्ट्स किए और प्रेगनेंट बताया।

डॉक्टर- डरने की कोई बात नहीं हैं, मैं तुम्हें दवा दे देती हूं। दवा खा कर परसो आ जाना, मैं फिर से टेस्ट करूंगी।
दीपिका- ठीक है।

हम दोनों वहां से निकले, एक रेस्टोरेंट में खाना खाया।
दीपिका- शॉपिंग करने चलो।
मैं- ठीक है।

हम दोनों एक शॉपिंग मॉल गए, दीपिका ने मेरे लिए दो शर्ट, एक जींस, एक घड़ी खरीदी.
उसने अपने लिए दो सेट सेक्सी ब्रा पैंटी की सेट और दो सेक्सी नाइटी ली।

दीपिका- होटल से चेक आउट कर लो, मेरे फ्लैट पे चलो। मैं अपने भाई से बोल कर दो रण्डी बुला देती हूं, तुम लोग मजे करना।
मैं- ठीक है।

दीपिका ने अपने भाई अमित को फोन किया और बात करने लगी।
उसने अमित को मेरे बारे में पहले ही बता दिया था. उसने अमित को शाम को आने को बोला और रण्डी लाने को भी बोल दिया।

उसने बात करने के लिए मुझे फोन दिया।

अमित- धन्यवाद जीजा जी, आपने दीदी की मदद की। शाम को कैसी लड़की चाहिए?
मैं- मतलब?
अमित- आप जैसा माल बोलोगे, मैं जुगाड़ कर लूंगा।

मैं- तुम बताओ, कैसी ठीक रहेगी?
अमित- एक कंचा नेपाली और एक बंगाली भाभी ठीक रहेगी। बारी बारी चोद लेंगे।
मैं- ठीक है।

दीपिका ने फोन ले लिया और कुछ पैसे अमित को भेज दिये।

हम लोग होटल गए, वहाँ से मैंने अपना बैग लिया और दीपिका के फ्लैट पहुंच गए.
दो बेडरूम, हॉल, किचन फ्लैट था।

दीपिका बाथरूम गई तो मैंने रूम की जासूसी कर ली, मुझे सब ठीक लग रहा था।

अमित ने फोन किया और दस बजे तक आने का बोल दिया।
उसने बताया कि दो रण्डी बुक हो गई हैं, रात भर रहेंगी और तीन तीन शॉट लेंगी।

मैं और दीपिका इधर उधर की बातें करने लगे.
वह अपने लैपटॉप में अपने फोटो दिखाने लगी।
उसने अपने पूरे खानदान, अपने सारे दोस्तों के फोटो दिखाए, सबके कुछ किस्से बताए।

चार घंटे कैसे बीत गए, पता ही नहीं चला।

रात के आठ बज गए थे, मैंने खाने के लिए बाहर से कुछ मंगवा लिया, हम दोनों ने साथ में बैठ कर खाना खाया।
मुझे दीपिका का साथ अच्छा लग रहा था, मैं बेड पे उसके बगल में लेटा हुआ था तो मैंने उसे किस करना शुरू किया.

हम दोनों ने बड़े प्यार से एक दूसरे के होंठों को पन्द्रह मिनट मिनट तक चूसा।

दीपिका- स्टैमिना बचा के रखो, आपके लिए दो माल आ रही हैं।
मैं- ठीक है।

दीपिका- सेक्स पावर बढ़ाने के लिए दवा है, खाओगे क्या, बॉस खा कर चोदते हैं।
मैं- दे दो, दो रण्डी हैं, पूरा पैसा वसूल करेंगे।

दीपिका ने दवा और साथ में दूध ला कर दे दी।
मैंने दवा खा कर दूध पी लिया।

दस बजने में दस मिनट बाकी ही थे, अमित का फोन आया कि फ्लैट पहुंच गया हैं, दरवाज़ा खोल दूं।
दीपिका ने दरवाजा खोला।
अमित और दोनों रण्डी अंदर आ गई।

No comments

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();